Saturday , November 23 2019
Breaking News
Home / विदेश / करतारपुर कॉरिडोर के पीछे पाकिस्तान का डर्टी प्लान आया सामने (Video)

करतारपुर कॉरिडोर के पीछे पाकिस्तान का डर्टी प्लान आया सामने (Video)

इस्लामाबाद : करतारपुर कॉरिडोर को लेकर शुरू से ही पाकिस्तान बहुत उत्सुकता दिखा रहा है। दुनिया के सामने पाक दिखावा कर रहा है कि वह भारत के सिख यात्रियों को राहत देने के लिए उनके इस सबसे पवित्र ध्रमिक स्थल को खोलने के जी तोड़ प्रयास कर रहा है। लेकिन आतंकवाद की पनाहगाह बने पाक का डर्टी प्लान अब सामने आ चुका है। पाक ने खुद ही भारत विरोधी अपने नापाक इरादे उजागर कर दिए हैं।

क तीर से 2 निशाने लगाने की फिराक में
बालाकोट  स्ट्राइक और आर्टिकल 370 के फैसले से तिलमिलाया  कंगाल पाकिस्तान एक तीर से 2 निशाने लगाने की फिराक में है। एक तरफ पाक के प्रधानमंत्री इमरान खान अंतर्राष्ट्रीय मंच पर भारत के साथ शांति वार्ता और संबंधों को सुधारने की खोखली बातें कर रहे हैं और दूसरी तरफ उनकी सरकार के मंत्री ही करतारपुर साहिब में खालिस्तान समर्थकों के आने पर उनका दिल खोल कर स्वागत व खातिरदारी के बयान दे रहे हैं। पाक रेलमंत्री शेख रशीद अहमद जब ये बयान दे रहे थे तो उस वक्त भारत का कट्टर विरोधी गोपाल चावला उर्फ गोपी उनके साथ मौजूद था। इसका वीडियो भी सोशल  मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। इससे पहले उन्होंने कहा था कि करतारपुर का का नाम खालिस्तान होना चाहिए। पाक रेल मंत्री शेख राशिद अहमद ने करतारपुर कॉरिडोर मुद्दे पर बात करते हुए कहा था कि, ‘करतारपुर का नाम खालिस्तान स्टेशन रख देना चाहिए।

Tajinder Pal Singh Bagga

@TajinderBagga

कहते है ना कुत्ते की पूछ कभी सीधी नही होती, पाकिस्तान पर ये कहावत एकदम सही साबित होती है । कुछ लोग जो सोच रहे थे कि पाकिस्तान अच्छी नियत से कुछ कर रहा है तो ये उनके मुंह पर भी एक तमाचा है ।

1,975 people are talking about this
करतारपुर कॉरिडोर की आड़ में पाक के खतरनाक इरादे

8 नवंबर को सिख श्रद्धालुओं का पहला जत्था करतारपुर साहिब जा रहा है जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रवाना करेंगे। लेकिन इसके पीछे भारत ही नहीं, दुनिया के किसी भी कोने में मौजूद सिखों के लिए पाकिस्तान की एक बड़ी साजिश की बू आ रही है। पाकिस्तान इस कॉरिडोर के बहाने भारत के खिलाफ साजिश रच रहा है। पाक जानता है कि करतापुर सिखों के लिए सबसे पवित्र जगहों में से एक है क्योंकि इसे सिखों के पहले गुरू गुरू नानक ने बसाया था और यहीं पर उनका निधन भी हुआ था, इसीलिए सिख श्रद्धालुओँ  के जरिए करतारपुर कॉरिडोर  की आड़ में पाकिस्तान पंजाब को बर्बाद करने के अपने खतरनाक इरादे को पूरा करना चाहता है।

भारत को बांटने की साजिश 
पाकिस्तान करतारपुर साहिब के बहाने भारत को बांटने की साजिश रच रहा है और उसका मुख्य निशाना पंजाब है। पाकिस्तान भारत विरोधी खालिस्तान समर्थकों को सिर्फ पाक में ही नहीं बल्कि कनाडा, इंगलैंड आदि देशों में भी शह दे कर साजिशें रच रहा है। पाकिस्तान  पंजाब में उथल-पुथल मचाने के लिए  खालिस्तानी मूमेंट को तेज करना चाहता है। यही नहीं वह भारत में आतंकियों के प्रवेश को आसान बनाने के लिए भी करतारपुर कॉरिडोर का इस्तेमाल करना चाहता है ताकि आसानी से पंजाब में हथियार और नशा पहुंचा कर इसे तहस-नहस कर कर सके। करतारपुर कॉरिडोर से जहां पाक के कमाई के द्रार खुलेंगे वहीं खालिस्तानियों व आतंकियों को पलोसने में भी उसे आसानी  हो जाएगी।

कौन है गोपाल चावला?
गोपाल चावला उर्फ गोपी अपने भारतविरोधी रुख की वजह से जाना जाता है। वह जब-तब भारत के खिलाफ जहर उगलता रहता है। वह आतंकी सरगना और मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद का काफी करीबी है और उसके साथ सार्वजनिक तौर पर मंच भी साझा कर चुका है। 2015 में हुए दीनानगर आतंकी हमले से पहले चावला आतंकी सरगना हाफिज सईद के साथ मंच साझा करता दिखा था। पंजाब के गुरदासपुर जिले स्थित दीनानगर पुलिस स्टेशन पर 27 जुलाई 2015 को आतंकियों ने हमला किया था। इस हमले में एसपी समेत 4 पुलिसवाले शहीद हुए थे, जबकि 3 आम नागरिकों की भी मौत हुई थी।

अगस्त 2017 में चावला ने पंजाब में  खालिस्तानी आतंकवाद को दोबारा जीवित करने की अपील की थी और कहा था कि इसमें मिल्ली मुस्लिम लीग जैसे संगठनों की मदद ली जानी चाहिए। बता दें कि मिल्ली मुस्लिम लीग प्रतिबंधित आतंकी संगठन जमात-उद-दावा के सरगना हाफिज सईद का ही संगठन है। गोपाल चावला अक्सर भारत-विरोधी प्रदर्शन आयोजित करता है और और उससे जुड़ी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर शेयर कर भारत को धमकी देता है और जहर उगलता रहता है।

About Akhilesh Dubey

Check Also

दलाई लामा का उत्तराधिकारी: अमेरिका ने चीन के दावे को किया खारिज, UN सहित अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उठेगा मुद्दा

वाशिंगटन। संयुक्त राष्ट्र तिब्बत के धार्मिक गुरु के उत्तराधिकारी के मुद्दे को लेकर चीन और …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *