Thursday , December 12 2019
Breaking News
Home / सिवनी / सर्द मौसम में जल्द गर्मायेगा राजनीतिक माहौल !

सर्द मौसम में जल्द गर्मायेगा राजनीतिक माहौल !

राष्ट्र चंडिका (अमर नोरिया) नरसिंहपुर प्रदेश में एक बार फिर आने वाले कुछ समय बाद नगरीय निकाय और पंचायत चुनावों हलचलें तेज होने वाली हैं , प्रदेश में नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव की तैयारियां जोरों पर की जाने लगी हैं उसी तारतम्य में आने वाले समय में नगरीय निकाय में शहर की सत्ता को लेकर भी नये नये समीकरणों पर लोगों की चर्चायें जोर पकड़ रही हैं । प्रदेश में नगरीय निकायों के जो चुनाव पूर्व में प्रत्यक्ष निर्वाचन प्रणाली के तहत होते थे और इस बात को लेकर नगर पालिका अध्यक्ष सहित पार्षदों के पदों को लेकर लोग काफी पहले से सक्रिय हो जाते थे किंतु इस बार अप्रत्यक्ष प्रणाली को लेकर आने वाले नगरीय निकाय चुनाव के चुनाव में किन नेताओं और पार्टियों में किसके ऊपर दांव लगाया जाएगा इस बात को लेकर असमंजस बना हुआ है । राजनीतिक समीक्षकों को चुनावी समर में किन किन नामों पर दांव लगेगा पूर्वानुमान अभी से लगाना थोड़ा मुश्किलों से भरा है । दरअसल उसकी वजह पूर्व में यह चुनावी समीकरण प्रत्यक्ष तौर पर जब चुनाव कराने को लेकर होते थे तो अनेकों लोग आने वाले नगरीय निकाय चुनाव हेतु अपनी अपनी उम्मीदवारी को लेकर मैदानी तैयारी करने लगते थे, किंतु जैसे ही अप्रत्यक्ष चुनाव प्रणाली की घोषणा प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव को लेकर हुई लोगों ने अपनी-अपनी चुनावी रणनीति को बदलते हुए अपने वोटरों और समर्थकों के बीच आने वाले समय का इंतजार करके जाना ही उचित और मुनासिब समझा । नगरीय निकाय चुनाव में वैसे तो आम जनों के साथ-साथ राजनीतिक हल्कों में भी प्रत्यक्ष तरीके से चुनाव न कराने के पीछे इस बार किस वार्ड से कौन पार्षद खड़ा होगा और नगर पालिका अध्यक्ष का कौन उचित दावेदार होगा इसको लेकर चुनावी समीकरण और मंथन लगातार जारी होगा और यह सब आने वाले समय में अध्यक्ष सहित पार्षदों के पदों के आरक्षण को लेकर स्पष्ट रूप से उसके बाद ही सामने आयेगा । प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव की पूरी राजनीतिक विसात अप्रत्यक्ष तरीके से चुनाव कराने की प्रक्रिया को लेकर तय की जायेगी और किन-किन मुद्दों को लेकर प्रदेश की जनता के सामने जाना है यह भी तय किया जायेगा । इस सबके चलते नरसिंहपुर में नगर पालिका अध्यक्ष को लेकर कई चेहरों को लेकर लोगों में नामों को लेकर बनते बिगड़ते समीकरण और चर्चाएं धीरे धीरे जोर पकड़ रही हैं, नरसिंहपुर नगर पालिका अध्यक्ष की बात करें तो इस बार नरसिंहपुर नगर पालिका का अध्यक्ष आरक्षण के दौरान सामान्य वर्ग या फिर आरक्षित वर्ग में किस संवर्ग का होगा इस बात को लेकर अभी भी लोगों की अटकलें लग रही हैं किंतु वास्तव में नरसिंहपुर में नपाध्यक्ष के नाम को लेकर कुछ चेहरे हैं जो सामने आ रहे हैं और जिन पर लोगों की राजनीतिक चर्चाएं अब शहर में सुनाई दे रही हैं कुछ ऐसे चेहरों को सार्वजनिक कार्यक्रमों सहित अनेक सामाजिक संस्कृतिक अवसरों पर सक्रिय भी देखा जा सकता है । जिले में राजनीतिक उठापटक का भी बड़ा दिलचस्प इतिहास है और इसकी बानगी जिला पंचायत के चुनावों में पिछले कई सालों में अध्यक्ष उपाध्यक्ष के चुनावों में सदस्यों के समर्थन और वोटों को लेकर सामने आती भी रही हैं ,भले ही नगरीय निकाय चुनाव अप्रत्यक्ष तरीके से किए जाएंगे किंतु फिर भी कुछ अध्यक्ष पद के दावेदार जो हैं वह अगर अभी से इन समीकरणों को साधने में सफल होते हैं तो निश्चित है कि नगरीय निकाय चुनाव का मुकाबला नरसिंहपुर शहर में काफी रोमांचक होगा अन्यथा अध्यक्ष पद के दावेदारों को और उनकी उम्मीदवारी को वार्ड स्तर पर रोकने के प्रयास राजनीतिक गुणा भाग के तहत किये जा सकते हैं । अप्रत्यक्ष तरीके से चुनाव में राजनीतिक समर्थन की राजनीतिक बिसात नरसिंहपुर नगर पालिका चुनाव में किस तरह बिछाई जाएगी यह नरसिंहपुर शहर में सक्रिय राजनीति के चाणक्यों की नीतियों पर ही निर्भर होगा । अब देखना यह होगा कि नगरपालिका में अध्यक्ष के पद के चुनाव भले ही अप्रत्यक्ष प्रणाली से कराये जा रहे हैं किंतु जो चर्चित चेहरे हैं अगर वह सक्रियता से जनता के सामने और अपने-अपने क्षेत्रों में सक्रिय नहीं हुए तो उनके कदम वार्ड स्तर पर ही अध्यक्ष की कुर्सी तक पहुंचने में रोक सकते हैं । फिलहाल शहर के चर्चित चेहरे जो की नगर पालिका अध्यक्ष पद हेतु नरसिंहपुर में चर्चाओं में हैं उन चेहरों को लेकर नरसिंहपुर में राजनीतिक दांव पेंच का परिदृश्य सबके सामने हैं और उन चेहरों की स्वीकार्यता या अस्वीकार्यता जनता के बीच में उन राजनीतिक दलों के कर्ता-धर्ता और कार्यकर्ताओं के ऊपर ही निर्भर है कि वह किस तरह से नगरीय निकाय चुनाव में अपने समर्थक अध्यक्ष और पार्षदों को लेकर सक्रिय और सजग रहते हैं, जिससे नगर की सत्ता पर उनकी ताजपोशी हो सके यह आने वाले समय में ही पता चलेगा …..!!

About Akhilesh Dubey

Check Also

भाजपा का मंडल स्तर पर खेत धरना आंदोलन 14 दिसंबर को

– किसानों की समस्याओं व कमलनाथ सरकार की वादा खिलाफी के विरुद्ध होगा आंदोलन– किसानों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *