Breaking News

नरसिंहपुर जिला अस्पताल से मरीजों की दवाइयों में हेराफेरी

राष्ट्र चंडिका नरसिंहपुर – जिले में मानवता को शर्मसार करने वाला एक बड़ा ही वाकया सामने आया है और वह यह कि नरसिंहपुर जिला अस्पताल में मरीजों की वितरण की जाने वाली दवाओं को काफी लंबे समय से हेरफेर कर बाजार में बेचा जा रहा था हालांकि इस बात को लेकर अभी तक जांच चल रही है किंतु जो भी तथ्य भी सामने आए हैं उससे यह अनुमान लगाया जा सकता है कि नरसिंहपुर जिला अस्पताल में आने वाली दवाइयां जो की सरकारी अस्पताल में इलाज कराने वाले लोगों को मुफ्त में दी जाती थी यह जिला अस्पताल के स्टोर रूम से निकाल कर बाहर की दवा दुकानों पर भेजी जा रही थी इस बात की शिकायत जब जिला अस्पताल में पदस्थ स्टोर रूम के 1 सहायक कर्मचारी द्वारा कलेक्टर सहित अन्य विभागीय अधिकारियों को की गई तब यह मामला सामने खुलकर आया किंतु इस मामले का एक बड़ा  नेटवर्क हो सकता है जो जिला अस्पताल के स्टोर रूम से दवाइयों को गायब करने सिलसिला काफी लंबे समय से संचालित था मगर जब जांच की बारी आई तो जिला प्रशासन ने मात्र एक स्टोर कीपर को वहां से हटा कर अपनी जांच की इतिश्री कर ली थी किंतु कुछ जागरूक नागरिकों के द्वारा और स्थानीय मीडिया के द्वारा इस मामले की नब्ज पकड़ी गई तो यह पूरा का पूरा मामला और नेटवर्क बेहद गंभीर तरीके से सामने आया और इस जांच के बाद गत गत 29 जनवरी को जब इस बात की जानकारी कुछ पत्रकारों को लगी कि जिला अस्पताल के स्टोर रूम में निलंबित किया गया स्टोर कर्मचारी और वर्तमान में पदस्थ एक कर्मचारी रात में स्टोर रूम कर खोल कर कुछ  करने का प्रयास कर रहे हैं तो उपस्थित पत्रकारों ने जिला प्रशासन के अधिकारियों को इस बात की सूचना दी मौके पर सीएमएचओ और तहसीलदार के द्वारा जब जाकर देखा तो वहां पर कुछ कागजात व दवाइयों को जली हुई अवस्था में मिले इस बात की तस्दीक करते हुए उक्त दोनों अधिकारियों ने अपने प्रभाव का इस्तेमाल करते हुए उक्त कर्मचारियों से सवाल जबाब भी किये और उसके बाद 30 जनवरी को दूसरे दिन इस पूरे मामले को लेकर भोपाल से आई एक टीम ने भी जांच पड़ताल की और इस मामले को लेकर उन्हें स्थानीय जागरूक नागरिकों ने इस मामले में जल्दी एफ आई आर दर्ज कर इस पूरे नेटवर्क को उजागर करने की मांग की किंतु इस मामले में जिला प्रशासन की कार्रवाई को लेकर भी सवाल उठ रहे हैं जिला कलेक्टर द्वारा 30 जनवरी को जारी इस मामले में कार्यवाही के आदेशों में कर्मचारियों के ऊपर की गई कार्यवाही के आदेश सामने आए हैं उस बात में स्पष्ट जिक्र किया गया है कि जब जिला स्तर का जांच दल इस मामले की जांच कर रहा था तो सिविल सर्जन मिश्रा ने जांच में सहयोग नहीं कर रहे थे इसके बाद भी उन पर किसी प्रकार की कार्यवाही 29 जनवरी 2019  नहीं की गई थी । किन्तु जब देखा कि 29 जनवरी की रात्रि में वहां पर स्टोर रूम में कुछ अफरा-तफरी करने का प्रयास किया जा रहा है और पत्रकारों द्वारा इस बात को उजागर किया गया तब कहीं जाकर दूसरे दिन सिविल सर्जन मिश्रा पर कार्यवाही की गई है इससे अपने आप में यह बात साबित होती है कि जिला प्रशासन किसी ना किसी के दबाव में आकर इस मामले के जो और बड़े तार हैं और वह कहां-कहां से जुड़े हुए हैं इस पर पर्दा डालने का प्रयास कर रहा था जिस बात को लेकर स्थानीय जागरूक नागरिक लगातार एफ आई आर दर्ज कर इस मामले को पुलिस के द्वारा जांच कर कार्यवाही किये जाने की मांग कर रहे हैं ।

About Akhilesh Dubey

Akhilesh Dubey

Check Also

हरिदर्शन नगर नागपुर रोड में भागवत ज्ञान कथा प्रारंभ

 राष्ट्र चंडिका सिवनी .सिवनी के हरिदर्शन नगर नागपुर रोड में भागवत ज्ञान कथा प्रारंभ हो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *