Breaking News
Home / सिवनी / नगर पालिका तिराहा से बस स्टैण्ड तक वाहनों के लिये मुफीद होगा पार्किंग स्थल!

नगर पालिका तिराहा से बस स्टैण्ड तक वाहनों के लिये मुफीद होगा पार्किंग स्थल!

राष्ट्र चंडिका सिवनी । 26 नवंबर से लगातार आठ दिन चला अतिक्रमण विरोधी अभियान का पहला चरण समाप्त हुए तीन दिन बीत चुके हैं। इसके बाद अब लोग इस अभियान की समीक्षा करते नज़र आ रहे हैं। इसी बीच जिला प्रशासन के द्वारा अतिक्रमण से मुक्त करवायी गयी भूमि का उपयोग क्या किया जाये, इसको लेकर नागरिकों से सुझाव चाहे गये हैं।जिला प्रशासन के द्वारा की जा रही इस पहल का लोग स्वागत करते नज़र आ रहे हैं। लोग जानते हैं कि अधिकारियों की तैनाती सिवनी जिले में स्थायी नहीं है। वे आज हैं, कल कहीं और पदस्थ हो जायेंगे। अधिकारियों के द्वारा जो काम करवाये जा रहे हैं वे काम जिले के नागरिकों के हितों को ध्यान में रखकर ही करवाये जा रहे हैं। नागरिकों में इस बात को लेकर काफी उत्साह दिख रहा है कि प्रशासन के द्वारा नागरिकों के लिये अब अतिक्रमण मुक्त करवायी गयी जमीन का उपयोग क्या किया जाये, इस पर सुझाव माँगे जा रहे हैं। इससे नागरिकों को लगने लगा है कि जो काम हुआ है वह उनके हित के लिये ही हुआ है और इस अभियान में उन्होंने धैर्य और संयम रखते हुए अपनी सहभागिता दी है। नागरिकों के बीच चल रहीं चर्चाओं के अनुसार बस स्टैण्ड से लेकर नगर पालिका तिराहा तक स्कूल के सामने एवं सरकारी आवासों के आसपास की रिक्त करवायी गयी भूमि को संरक्षित करने के लिये यहाँ खंबे गाड़े जा रहे है। इसकी बजाय अगर इस स्थान को पक्का किया जाकर यहाँ चार पहिया और दो पहिया वाहनों के लिये पार्किंग अगर बनवा दी जाती है तो भविष्य में इस स्थान पर न तो दुकानदार अस्थायी रूप से दुकान लगा पायेंगे न ही इस भूमि पर अतिक्रमण हो पायेगा। लोगों का कहना है कि बस स्टैण्ड के पास के रिक्त भूखण्डों पर पच्चीस तीस चार पहिया और सत्तर पचहत्तर दो पहिया वाहनों के लिये पार्किंग बनायी जा सकती है। इसी तरह थाने के सामने स्कूल की चारदीवारी के पास भी इतने ही वाहनों के लिये पार्किंग बनवायी जा सकती है। प्रशासन चाहे तो इस पार्किंग को पेड पार्किंग कर सकता है ताकि यहाँ अव्यवस्था न फैले। नागरिकों का मानना है कि वैसे भी बस स्टैण्ड और बुधवारी क्षेत्र में पार्किंग की सबसे ज्यादा समस्या है। इस तरह अगर यहाँ पार्किंग के प्रस्ताव पर प्रशासन विचार करे तो बस स्टैण्ड और बुधवारी बाज़ार क्षेत्र में पार्किंग की समस्या से निज़ात मिल सकती है। वैसे भी एक समय में इन दोनों ही स्थानों पर सौ से ज्यादा चार पहिया और डेढ़ सौ से ज्यादा दो पहिया वाहन एक साथ शायद ही पहुँचते हों। नागरिकों के मतानुसार इसके साथ ही साथ शहर में सड़क पर खड़े होने वाले वाहनों के लिये महानगरों की तर्ज पर क्रेन सहित इस व्यवस्था को आउटसोर्स अगर कर दिया जाता है तो चालान के भय से लोग सड़कों पर बेतरतीब पार्किंग करने से भी कतराते नज़र आयेंगे और शहर की यातायात व्यवस्था चुस्त दुरूस्त की जा सकती है।

About Akhilesh Dubey

Check Also

बरमान मेले के शुभारंभ कार्यक्रम में गूंजा अवैध खनन का मुद्दा

विधायक श्रीमती सुनीता पटैल ने प्रशासन की कार्यप्रणाली पर उठाये सवाल राष्ट्र चंडिका नरसिंहपुर – …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *