Breaking News

UP में कांग्रेस से गठबंधन से मायावती का इनकार, कांग्रेस ने कहा- मुझे उनकी जरूरत नहीं

लखनऊ/नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव में भाजपा को टक्कर देने के लिए विपक्षी दलों के महागठबंधन की संभावनाओं को झटका लगा है। बसपा ने मंगलवार को साफ कर दिया कि वह 11 अप्रैल से शुरू हो रहे चुनाव में कांग्रेस के साथ किसी भी राज्य में गठबंधन नहीं करेगी। मायावती के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कांग्रेस की उत्तर प्रदेश इकाई के एक प्रवक्ता ने कहा कि हमें उनकी जरूरत नहीं है। एक बयान में मायावती ने कहा कि ये बात पुन: स्पष्ट की जा रही है कि बहुजन समाज पार्टी किसी भी राज्य में कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करेगी। बसपा सुप्रीमो की टिप्पणी ऐसे दिन आई, जब कांग्रेस की शीर्ष नीति निर्धारक इकाई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक अहमदाबाद में चल रही है।

सपा के साथ उत्तर प्रदेश में चुनाव पूर्व गठबंधन का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि बसपा व सपा का गठबंधन दोनों ओर से परस्पर सम्मान व पूरी नेक नीयति के साथ काम कर रहा है। यह ‘परफेक्ट अलायंस’ माना जा रहा है जो सामाजिक परिवर्तन की जरूरतों को पूरा करता है तथा भाजपा को पराजित करने की क्षमता भी रखता है और देशहित में यह आज की आवश्यकता है। उल्लेखनीय है कि सपा-बसपा ने हाल ही में उत्तर प्रदेश में गठजोड़ किया है। कांग्रेस को इससे बाहर रखा गया। हालांकि, सपा-बसपा ने तय किया कि वे रायबरेली और अमेठी से अपने उम्मीदवार नहीं उतारेंगे। अमेठी से इस समय कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और रायबरेली से उनकी मां सोनिया गांधी लोकसभा सांसद हैं।

कांग्रेस की प्रदेश इकाई के प्रवक्ता राजीव बख्शी ने कहा कि यह मायावती को नहीं तय करना कि कांग्रेस उनकी पार्टी के साथ गठबंधन चाहती है कि नहीं। उन्होंने कहा कि उनके पास संसद में एक भी सीट नहीं है। फिर वह कैसे तय कर सकती हैं कि कांग्रेस गठबंधन करेगी कि नहीं?’’ बख्शी ने कहा कि हम अकेले चुनाव लड़ रहे हैं और गठबंधन नहीं चाहते। हमें उनकी जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के बारे में बोलने की बजाय उन्होंने सपा से अपने गठबंधन पर काम करने की जरूरत है, जो टूट रहा है। 15-20 दिन रुकिए और फिर देखिए कि चीजें कैसे आगे बढ़ती हैं। बख्शी ने कहा कि कांग्रेस में किसी भी स्तर पर बसपा से गठबंधन की कोई चर्चा नहीं हुई। बसपा की तरफ इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि वे बेसब्र हैं।

मायावती की टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर कांग्रेस के पश्चिमी उत्तर प्रदेश मामलों के प्रभारी महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया ने एक न्यूज चैनल से कहा कि हम हर पार्टी की राय का सम्मान करते हैं। हम इस राय का भी सम्मान करते हैं। इससे पहले, उन्होंने कहा था कि कांग्रेस उत्तर प्रदेश में अपने दम पर चुनाव लड़ेगी। उन्होंने कहा कि उनकी राह सपा और बसपा से अलग हो सकती है, लेकिन उनका मकसद एक ही है। प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों में से सपा 37 पर और बसपा 38 पर चुनाव लडेगी। 3 सीटें अजित सिंह के नेतृत्व वाली रालोद के लिए छोड़ी गई हैं।

About Akhilesh Dubey

Check Also

लोकसभा चुनाव 2019: BJP के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी ने वाराणसी में किया मतदान

वाराणसी: भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी ने वाराणसी में मतदान किया। इस दौरान उन्होंने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *