Breaking News

ALERT: गूगल मैप्स के जरिए खाली हो रहे लोगों के बैंक अकाउंट्स!

गूगल मैप्स का उपयोग लोग दुनिया भर में आसानी से अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए करते हैं, लेकिन अब इन्हीं मैप्स का उपयोग लोगों की बैंक डिटेल्स को चुराने के लिए किया जा रहा है। आपको जानकर हैरानी होगी कि गूगल मैप्स के जरिए हैकर्स आपके बैक अकाउंट्स की जानकारी को हासिल कर आपको चूना लगा सकते हैं। लेकिन अगर आपको इस फ्राड की जानकारी पूरी तरह से हो तो आप इस तरह के अटैक से अभी भी बच सकते हैं।

आसानी से एडिट हो रही मैप्स की जानकारी

गूगल की यूज़र जेनेरेटेड कॉन्टेंट पॉलिसी के तहत गूगल मैप्स में दी गई जानकारी को कोई भी आसानी से एडिट कर सकता है। ऑनलाइन टैक्नोलॉजी न्यूज़ वैबसाइट गैजेट्स नाउ की रिपोर्ट के मुताबिक अटैकर इस पॉलिसी का गलत फायदा उठाकर गूगल सर्च रिजल्ट में बैंक के असली फोन नम्बर की जगह अपना मोबाइल नंबर डाल रहे हैं व लोगों को बेवकूफ बना कर उनके बैंक अकाउंट से पैसे उड़ाने की चाल चल रहे हैं।

ऐसे हो रहा अटैक

  • गूगल की पालिसी के तहत जब आप अपने बैंक को गूगल मैप पर सर्च करते हैं तो आपको अटैकर द्वारा दिखाई गई जानकारी मिलती है जिसे आप सही समझ कर उस पर फोन करते हैं।
  • इस दौरान आप सोचते हैं कि गूगल द्वारा दिखाई गई जानरकारी सही है लेकिन आपको पता नहीं होता कि असल में अटैकर द्वारा इस जानकारी को शामिल किया गया है। ऐसे में जब आप फोन करते हैं तो आपकी कॉल फ्राड कॉल करने वालों के पास चली जाती है और वे बैंक के कर्मचारी की तरह आपसे बातें करते हैं।
  • इस दौरान वे आपसे एटीएम और क्रेडिट कार्ड के बारे में जानकारी मांगते हैं और आप उसे बैंक का कर्मचारी समझकर पूरी जानकारी दे भी देते हैं। इसके बाद उनकी पहुंच आपके बैंक खाते तक हो जाती है जिससे आपका बैंक खाता खाली हो सकता है।

महाराष्ट्र स्टेट साइबर पुलिस ने किया खुलासा

महाराष्ट्र स्टेट की साइबर पुलिस ने इस धोखाधड़ी का खुलासा किया है। पुलिस ने बताया है कि अब तक ऐसे तीन मामले सामने आ चुके हैं जोकि बैंक ऑफ इंडिया से सम्बंधित हैं। आपको बता दें कि इम्प्लॉइज प्रोविडेंट फंड ओर्गनाइजेशन (EPFO) भी इस अटैक से प्रभावित हो गई है। एक अटैकर ने मुम्बई के EPFO ऑफिस की कन्टैक्ट डिटेल को गूगल सर्च पर बदल दिया था। इसके बाद जब लोगों ने इस नम्बर पर कन्टैक्ट किया तो उनसे पर्सनवल डिटेल्स मांगी गई जिसके बाद उनके साथ धोखा होने की रिपोर्ट है।

क्यों शामिल किया था गूगल ने यह फीचर

गूगल ने कन्टैक्ट डिटेल्स को ऐडिट करने की सर्विस इसलिए दी थी ताकि लोग दुकानों, बैंक व अन्य संस्थाओं की डिटेल्स को खुद बदल सकें। इसे गूगल की सर्विस को बेहतर बनाने के लिए दिया गया था लेकिन किसे पता था कि चोर इस फीचर का गलत इस्तेमाल कर लोगों को चूना लगा देंगे। इन तीनों मामलों की जानकारी गूगल को भी दी गई है, हालांकि गूगल मैप्स में एडिट का फीचर अभी भी मौजूद है।

गूगल मैप्स का उपयोग लोग दुनिया भर में आसानी से अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए करते हैं, लेकिन अब इन्हीं मैप्स का उपयोग लोगों की बैंक डिटेल्स को चुराने के लिए किया जा रहा है। आपको जानकर हैरानी होगी कि गूगल मैप्स के जरिए हैकर्स आपके बैक अकाउंट्स की जानकारी को हासिल कर आपको चूना लगा सकते हैं। लेकिन अगर आपको इस फ्राड की जानकारी पूरी तरह से हो तो आप इस तरह के अटैक से अभी भी बच सकते हैं।

आसानी से एडिट हो रही मैप्स की जानकारी

गूगल की यूज़र जेनेरेटेड कॉन्टेंट पॉलिसी के तहत गूगल मैप्स में दी गई जानकारी को कोई भी आसानी से एडिट कर सकता है। ऑनलाइन टैक्नोलॉजी न्यूज़ वैबसाइट गैजेट्स नाउ की रिपोर्ट के मुताबिक अटैकर इस पॉलिसी का गलत फायदा उठाकर गूगल सर्च रिजल्ट में बैंक के असली फोन नम्बर की जगह अपना मोबाइल नंबर डाल रहे हैं व लोगों को बेवकूफ बना कर उनके बैंक अकाउंट से पैसे उड़ाने की चाल चल रहे हैं।

ऐसे हो रहा अटैक

  • गूगल की पालिसी के तहत जब आप अपने बैंक को गूगल मैप पर सर्च करते हैं तो आपको अटैकर द्वारा दिखाई गई जानकारी मिलती है जिसे आप सही समझ कर उस पर फोन करते हैं।
  • इस दौरान आप सोचते हैं कि गूगल द्वारा दिखाई गई जानरकारी सही है लेकिन आपको पता नहीं होता कि असल में अटैकर द्वारा इस जानकारी को शामिल किया गया है। ऐसे में जब आप फोन करते हैं तो आपकी कॉल फ्राड कॉल करने वालों के पास चली जाती है और वे बैंक के कर्मचारी की तरह आपसे बातें करते हैं।
  • इस दौरान वे आपसे एटीएम और क्रेडिट कार्ड के बारे में जानकारी मांगते हैं और आप उसे बैंक का कर्मचारी समझकर पूरी जानकारी दे भी देते हैं। इसके बाद उनकी पहुंच आपके बैंक खाते तक हो जाती है जिससे आपका बैंक खाता खाली हो सकता है।

महाराष्ट्र स्टेट साइबर पुलिस ने किया खुलासा

महाराष्ट्र स्टेट की साइबर पुलिस ने इस धोखाधड़ी का खुलासा किया है। पुलिस ने बताया है कि अब तक ऐसे तीन मामले सामने आ चुके हैं जोकि बैंक ऑफ इंडिया से सम्बंधित हैं। आपको बता दें कि इम्प्लॉइज प्रोविडेंट फंड ओर्गनाइजेशन (EPFO) भी इस अटैक से प्रभावित हो गई है। एक अटैकर ने मुम्बई के EPFO ऑफिस की कन्टैक्ट डिटेल को गूगल सर्च पर बदल दिया था। इसके बाद जब लोगों ने इस नम्बर पर कन्टैक्ट किया तो उनसे पर्सनवल डिटेल्स मांगी गई जिसके बाद उनके साथ धोखा होने की रिपोर्ट है।

क्यों शामिल किया था गूगल ने यह फीचर

गूगल ने कन्टैक्ट डिटेल्स को ऐडिट करने की सर्विस इसलिए दी थी ताकि लोग दुकानों, बैंक व अन्य संस्थाओं की डिटेल्स को खुद बदल सकें। इसे गूगल की सर्विस को बेहतर बनाने के लिए दिया गया था लेकिन किसे पता था कि चोर इस फीचर का गलत इस्तेमाल कर लोगों को चूना लगा देंगे। इन तीनों मामलों की जानकारी गूगल को भी दी गई है, हालांकि गूगल मैप्स में एडिट का फीचर अभी भी मौजूद है।

About Akhilesh Dubey

Akhilesh Dubey

Check Also

HCL का सबसे बड़ा अधिग्रहण सौदा, IBM के 7 सॉफ्टवेयर 12780 करोड़ रुपए में खरीदेगी

नई दिल्लीः आईटी कंपनी एचसीएल टेक्नोलॉजीज (HCL) ने अमेरिकी कंपनी आईबीएम के 7 सॉफ्टवेयर प्रोडक्ट …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *