Breaking News

जबलपुर संभाग के प्रथम नीजी विश्वविद्यालय का राज्यपाल ने किया शुभारंभ

शिक्षा के माध्यम से ही समाज में जागृति आयेगी, राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल
राष्ट्र चंडिकाा बालाघाट (ओमेद्र बिसेन )।  समाज में व्याप्त बाल विवाह, कुपोषण, जात-पात की भावना, अंधविश्वास एवं अन्य कुरीतियों को शिक्षा के माध्यम से ही दूर किया जा सकता है। शिक्षा के माध्यम से ही समाज के लोगों में जागृति आयेगी और तभी हमारा समाज, प्रदेश व देश विकास के रास्ते पर तेजी से आगे बढ़ सकेगा। यह बातें मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ राज्य की राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल ने आज 05 अक्टूबर को बालाघाट जिले के डोंगरिया में नीजी क्षेत्र के सरदार पटेल विश्वविद्यालय बालाघाट के शुभारंभ अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही।
कार्यक्रम में मध्यप्रदेश शासन के किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन, विधायक डॉ योगेन्द्र निर्मल, पूर्व सांसद श्री विश्वेश्वर भगत, पूर्व विधायक श्री प्रदीप जायसवाल, श्रीमती लता एलकर, श्री रमेश रंगलानी, सरदार पटेल विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ दिवाकर सिंह, जवाहर लाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय जबलपुर के कुलपति डॉ प्रदीप बिसेन, कलेक्टर श्री डी व्ही सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री जयदेवन ए., अन्य गणमान्य नागरिक एवं छात्र-छात्रायें उपस्थित थी।
कार्यक्रम की मुख्य अतिथि राज्यपाल श्रीमती पटेल ने अपने संबोधन में कहा कि बालाघाट जिले के डोंगरिया में प्रारंभ हुआ यह विश्वविद्यालय जबलपुर संभाग के 08 जिलों में पहला निजी विश्वविद्यालय है। इसके प्रारंभ होने से आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र के युवाओं को शिक्षा के क्षेत्र में अच्छी सुविधायें सुलभ होगी। शिक्षा का मनष्य के जीवन में बहुत महत्व है। पढ़ाई पूरी करने के बाद छात्र-छात्रायें डिग्री लेकर सरकारी नौकरी की तलाश में लग जाते है। युवाओं की इस प्रवृत्ति को बदलने की आवश्यकता है। विश्वविद्यालय युवाओं को तकनीकी एवं रोजगारमूलक शिक्षा देने का प्रयास करें। जिससे युवा पढ़ाई पूरी करने के बाद अपने पैरों पर खड़े हो सके और अपना स्वयं का व्यवसाय व उद्योग प्रारंभ कर अन्य लोगों को रोजगार देने में सक्षम बन सके।
राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि सरदार पटेल विश्वविद्यालय को शिक्षा के साथ सामाजिक कुरीतियों को दूर करने में भी अपना योगदान देना चाहिए। अपने यहां पर पढ़ने वाली सभी छात्राओं का ब्लड टेस्ट करायें और उनका हिमोग्लोबिन चेक करायें। कम हिमोग्लोबिन वाली छात्राओं को चिन्हित कर उनके परिजनों को इसके दुष्परिणामों से अवगत करायें। समाज में कम आयु की बालिकाओं के विवाह को रोके।
मध्यप्रदेश शासन के किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन ने इस अवसर पर अपने संबोधन में कहा कि मध्यप्रदेश कृषि के क्षेत्र में देश का अग्रणी राज्य है। मध्यप्रदेश की कृषि विकास दर बहुत अच्छी है। कृषि आधारित उद्योगों के लिए हमें तकनीकी रूप से कुशल युवाओं की जरूरत है। बालाघाट जिला कृषि, वन संपदा एवं खनिज संपदा से परिपूर्ण जिला है। इस जिले में कृषि, वन संपदा एवं खनिज के क्षेत्र में उद्योग की बहुत अच्छी संभावनायें है। सरदार पटेल विश्वविद्यालय द्वारा कृषि के साथ ही अन्य उपयोगी कोर्स प्रारंभ किये गये है। इसका लाभ जिले को निश्चित रूप से मिलेगा।

About Akhilesh Dubey

Akhilesh Dubey

Check Also

मां ज्वाला देवी सिद्धपीठ मंदिर में जगमगा रहे 119 मनोकामना ज्योति कलश

राष्ट्र चंडिका  सिवनी। उपनगरीय क्षेत्र भैरोगंज परतापुर रोड स्थित श्री मां आदिशक्ति ज्वालादेवी सिद्धपीठ मंदिर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *