Breaking News

मुख्य चुनाव आयुक्त की देख-रेख में अगले साल अप्रैल-मई में हो सकते हैं लोकसभा चुनाव

लखनऊ : केन्द्रीय चुनाव आयोग अगले साल अप्रैल-मई के महीनों में लोकसभा चुनाव करवाने की तैयारी कर रहा है। इसी के मद्देनजर उत्तर प्रदेश की चुनाव मशीनरी ने भी तैयारियां और तेज कर दी हैं। राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल वेंकटेश्वर लू 11 अक्तूबर को लोकसभा चुनावों के लिए 1 सितम्बर से शुरू हुए मतदाता सूची के पुनरीक्षण अभियान की समीक्षा करेंगे।ज्ञात हो कि 16वीं लोकसभा के लिए आम चुनाव 7 अप्रैल 2014 से 12 मई 2014 के बीच 9 चरणों में करवाए गए थे। 16 मई 2014 को लोकसभा चुनाव के परिणाम घोषित हुए थे। 26 मई 2014 को नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री बने थे। 4 जून 2014 को 16वीं लोकसभा की पहली बैठक हुई थी। इस लिहाज से 17वीं लोकसभा का गठन 3 जून 2019 तक हर हाल में हो जाना है। उम्मीद यह भी है कि अप्रैल-मई में होने वाले लोकसभा चुनाव के साथ ही आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, ओडिशा और सिक्किम विधानसभाओं के भी चुनाव करवाए जाएंगे।यूपी में लोकसभा चुनाव की तैयारियों के क्रम में वीडियो कान्फ्रैंसिंग के जरिए 11 अक्तूबर को प्रदेश के हर जिले के अफसर से मतदाता सूची पुनरीक्षण अभियान की प्रगति पूछी जाएगी। इस बार के अभियान में केन्द्रीय चुनाव आयोग के निर्देश पर 1 जनवरी 2019 को 18 वर्ष की उम्र पूरी करने वाले युवा वोटरों के अलावा महिलाओं और विकलांगों को ज्यादा से ज्यादा तादाद में मतदाता सूची में जोड़े जाने को प्राथमिकता दी जा रही है।इसके साथ ही मौजूदा वोटर लिस्ट में दर्ज डुप्लीकेट और जिले या प्रदेश से अन्यत्र बसे तथा मृत वोटरों को हटाने पर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है। यह पुनरीक्षण अभियान 31 अक्तूबर तक चलेगा। अभियान के दौरान एकत्रित आंकड़ों की नवम्बर व दिसम्बर के महीनों में फीडिंग की जाएगी। फिर अगले साल 4 जनवरी को प्रदेश की नई वोटर लिस्ट का फाइनल ड्राफ्ट प्रकाशित किया जाएगा। वर्ष 2014 में हुए पिछले लोकसभा चुनाव की यूपी की वोटर लिस्ट में कुल 13,43,51,297 वोटर दर्ज हुए थे।

नए मुख्य चुनाव आयुक्त की देख-रेख में होंगे लोकसभा चुनाव
2019 के लोकसभा चुनाव देश के नए मुख्य चुनाव आयुक्त की अगुवाई में होंगे। मौजूदा मुख्य चुनाव आयुक्त ओम प्रकाश रावत आगामी 1 दिसम्बर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं। वर्ष 1977 बैच के मध्य प्रदेश कैडर के आईएएस रावत 14 अगस्त 2015 को केन्द्रीय चुनाव आयोग में चुनाव आयुक्त बनाए गए थे। फिर 23 जनवरी 2018 को वह मुख्य चुनाव आयुक्त बनाए गए। 1 दिसम्बर 2018 को 65 साल की उम्र पूरी होने पर वह रिटायर होंगे। वरिष्ठता को देखते हुए मौजूदा चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा को देश का अगला मुख्य चुनाव आयुक्त बनाए जाने की पूरी संभावना है।

About Akhilesh Dubey

Akhilesh Dubey

Check Also

CM योगी का बड़ा बयान, कहा- भव्य राम मंदिर की तैयारी शुरू करें श्रद्धालु

गोरखपुरः उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर निर्माण को लेकर बड़ा बयान दिया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *